Uncategorized

टपकती छत और पुराने भवन में पड़ने मजबूर बच्चे

भोपाल पटनम (आनंद) ब्लॉक मुख्यालय से लगा हुआ स्कूल का बुरा हाल है और मुख्यालय का इंग्लिश स्कूल शिक्षक विहीन है,इससे अंदाजा लगाया की सकता है की अंदरूनी स्कूल की स्तिथि क्या होगा,
इस वर्ष की शिक्षा स्तर की बात करे तो ब्लाक मुख्यालय में संचालित कई स्कूलों की हालत नाजुक है। महज मुख्यालय से दो किलोमीटर दूरी की गोटाइगुड़ा मिडिल स्कूल भवन की हालात पूरी तरह से खराब हो चुकी है इसी भवन में संस्था संचालित हो रही है। आध्यानरथ बच्चो को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। इसके बाद भी मुख्यमंत्री शाला जतन योजना के अंतर्गत इस भवन की मरम्मत पर कोई ध्यान नहीं दिया गया है। भवन की स्तिथि देखे तो दीवारों से पापड़ी निकल गई है। छत से पानी टपकता है। फर्स में पूरे गड्ढे हो गए है। अध्ययनरत बच्चो के अभिभावकों ने बताया कि स्कूल भवन काफी जर्जर स्थिति में है। जिसके छत से प्लास्टर के टुकड़े आए दिन गिरते रहते है जिसकी वजह से बच्चों के घायल होने का डर भी बना रहता है। अभिभावकों के साथ ही विद्यालय के शिक्षकों ने बताया कि जर्जर स्कूल भवन को लेकर कई बार विभागीय अधिकारियों को जानकारी दी गई है। जिसके बाद भी मरम्मत के लिए कोई ध्यान नही दिया जा रहा है।
कन्या प्राथमिक शाला भोपालपटनम में एक ही शिक्षिका पूरी पांच कक्षाओ को संभाल रही है। इन्होंने बताया कि पदोउन्नति में पिछले साल एक शिक्षिका का प्रमोशन कर गोल्लगुड़ा भेज दिया गया है तब से वह एक ही शिक्षिका है और पहली से लेकर पांचवी तक की कक्षा को वही पढ़ा रही है उन्होंने बताया कि कई बार बीईओ व डीईओ कार्यलय को पत्र के माध्यम से जानकारी दी गई है उसके बाद भी अभी तक कोई कार्यवाही नही हुई है वैसे ही नयापारा भोपालपटनम और बोरगुड़ा रुद्राराम की दयनीय स्तिथि है वह भी एक शिक्षिका के भरोसे पूरी संस्था को छोड़ दिया गया है ऐसे में शिक्षा व्यवस्था कैसे सुधरेगी, और
विकासखंड के मुख्यालय में चल रही सीबीएसई इंग्लिस स्कूल शिक्षक विहीन है जहा स्कूल में 96 छात्र-छात्राएं अध्ययनरत हैं कक्षा 1,में 07 बच्चे है दूसरी में 25, तीसरी में 26, चौथी 17, पांचवी 21 बच्चे है अध्ययनरत है।वहा मात्र एक शिक्षिका है,
प्राचार्य बबीता चंद्राकर ने बताया कि यहां पिछले सत्र में पांच शिक्षक पदस्थ थे। इनमें दो शिक्षक पदोन्नत होकर दूसरे संस्था चले गए, वहाँ अन्य दो शिक्षकों को उनके मूल संस्था भेज दिया गया। इसके बाद से यहां शिक्षकों की पदस्थापना नहीं।देखा जाए तो छब्बीस जून को नए शिक्षा सत्र का आगाज हो गया है। जिले के अलग-अलग जगहों में प्रशासन लगातार शाला प्रवेश उत्सव का आयोजन कर रहा है। एक जुलाई को जिस भोपालपटनम में जिला स्तरीय शाला प्रवेश उत्सव का आयोजन किया गया था आज वहीं से शिक्षा व्यवस्था की पोल खुलती हुई नजर आ रही है। रानी दुर्गावती वार्ड के एक जर्जर भवन के दो कमरों में सीबीएसई गवमेंट इंग्लिश स्कूल संचालित हो रही है। इस स्कूल में एक शिक्षिका के भरोसे 96 छात्र अध्यनरत हैं। स्कूल की व्यवस्था व पढ़ाई में गुणवत्ता को लेकर यहां कई सवाल खड़े हो रहे है। इन सारी अव्यवस्थाओ को देखते हुए अध्यनरत 15 छात्रों ने टीसी मांग ली है। बच्चों के अभिभावक नहीं चाहते कि उनके बच्चों का भविष्य खराब हो। इस जर्जर भवन के दो कमरों संचालित स्कूल के एक कमरे में पहली से तीसरी व दूसरे कमरे में चौथी से पांचवी तक की कक्षा लगाई जा रही है, पालको का कहना है सीबीएसई इंग्लिश स्कूल में आनन पानन में कोई भी टीचर को संलग्न ना करे ,जो इंग्लिश माध्यम को पड़ा सके या इंग्लिश शिक्षक हो उन्ही को चयन हो ताकि बच्चो को अच्छी शिक्षा मिल सके खानापूर्ति कर बच्चो के साथ खिलवाड़ ना हो,

IMG 20230718 WA0022 Console Corptech
IMG 20230718 WA0018 Console Corptech

Related Articles

Back to top button